होमगैजेट्सएयरटैग - AirTag

एयरटैग – AirTag

-

- विज्ञापन -

आखिर क्या है एयरटैग ?

एप्पल कंपनी द्वारा 30 अप्रैल 2020 को भारतीय बाजार में एक प्रोडक्ट लाँच किया गया जिसे एयरटैग नाम दिया गया।

दिखने में यह सामान्य कीचैन जैसा ही है पर इसमें बहुत ही आधुनिक और खास फीचर दिए गए हैं। आइए विस्तार से जानते हैं।

एयरटैग क्या है

एयरटैग ब्लूटूथ और अल्ट्रा-वाइडबैंड तकनीक पर आधारित एक छोटा सा ट्रैकिंग उपकरण है जिसे एप्पल कंपनी ने विकसित किया है।

Apple's Tracking product called airtag
Credit: apple.com

दिखने में यह बहुत ही छोटा लगभग एक सिक्के बराबर है पर इसकी ट्रैकिंग क्षमता बहुत ही जबरदस्त है। एयरटैग को चालू रखने के लिए CR2032 बैटरी का उपयोग होता है। जो लगभग 1 साल तक एयरटैग को चालू रख सकती है।

एयरटैग का उपयोग क्या है।

यह ट्रैकिंग प्रोडक्ट है, इसका उपयोग हम अक्सर गुम हो जाने वाली चीजों के लिए कर सकते हैं जैसे – कमरे की चाबी, पर्स, बैग, इत्यादि चीजें जो आपको लगता है आम-तौर पर खो जाती है।

क्या इसका उपयोग केवल घर में गुम हो जाने वाली चीजों पर ही कर सकते हैं ?

नहीं, आप किसी भी वस्तु को ट्रैक करने के लिए एयरटैग का उपयोग कर सकते हैं जैसे – ड्रोन, कार, कुत्ता, आपका छोटा बच्चा, कुछ भी जो आप खोना नहीं चाहते उसे ट्रैक करने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं।

एयरटैग किस तकनीक पर आधारित है

ब्लूटूथ और UWB (अल्ट्रा वाइडबैंड)

यह एक ट्रैकिंग प्रोडक्ट है। ट्रैकिंग के लिए यह ब्लूटूथ तथा U1 चिप का फीचर अल्ट्रा-वाइडबैंड का उपयोग करता है। ताकि यह किसी वस्तु की सटीक लोकेशन बता सके।

- विज्ञापन -

एप्पल की चिप U1 अल्ट्रा-वाइडबैंड तकनीक का उपयोग करके किसी भी वस्तु की सटीक लोकेशन बता सकता है जिसमें एयरटैग लगा हो, एप्पल इसे “प्रिसिशन फाइंडिंग” कहता है।

एयरटैग कैसे काम करता है

आईफोन में एयरटैग की लोकेशन खोजी जा रही है।

यह कैसे काम करता है यह समझने के लिए हम मान लेते हैं कि आपका कोई सामान गुम हो गया है जिसमें एयरटैग लगा था। तब आप फाइंड माय ऐप के जरिए उस सामान को “Lost Item” की श्रेणी में डाल दीजिए।
इसके बाद एप्पल का फाइंड माय नेटवर्क आपके खोए हुए सामान को तलाशने लगेगा

एयरटैग के काम करने की अनोखी तकनीक है। यह लगातार गुमनाम तरीके से ब्लूटूथ सिंगनल भेजता रहता है जो किसी भी नजदीकी एप्पल डिवाइस के द्वारा डिटेक्ट कर लिया जाता है। जैसे ही कोई भी डिवाइस एयरटैग को डिटेक्ट करता है वह इसकी सूचना आई-क्लाउड के सर्वर पर अपलोड कर देता है जिसे आप फाइंड माय ऐप के जरिए मैंप पर देख सकते हैं।

एयरटैग कैसे काम करता है

एप्पल का दावा है की यह सारी प्रक्रिया एन्क्रिप्टेड और गुमनाम तरीके से की जाती है ताकि आपकी निजता पर इसका कोई असर ना हो।

क्या हो यदि एयरटैग के जरिए कोई आपको ट्रैक करे

एयरटैग के द्वारा लोगों की ट्रैकिंग की जा सकती है। यदि एयरटैग किसी ने आपकी गाड़ी या आपके बैग में आपको ट्रैक करने के मकसद से छुपा दिया है तो इससे आपको ट्रैक किया जा सकता है और इस बारे में एप्पल ने जरूर सोचा होगा इसलिए इसमें एक फीचर डाला गया है।

यदि कोई एयरटैग लंबे समय से आपको फॉलो कर रहा है तो इसकी सूचना आपको आपके आईफोन पर मिल जाएगी।

इसके बाद आप “प्ले साउंड” बटन दबाकर उसे खोज सकते हैं। और अपने आप से उसे दूर कर सकते हैं।

यदि आपको पास आईफोन नहीं है जो की ज्यादातर भारतीय लोगों के पास नहीं है, तो एयरटैग के माध्यम से कोई आपको ट्रैक कर सकता है।

एयरटैग क्या करेगा जब कोई आपको ट्रैक कर रहा है।
Image: Apple.com

एयरटैग इस्तेमाल करने के लिए आपको किस चीज की जरूरत पड़ेगी

  • एप्पल आई-डी (एप्पल डिवाइस)
  • आईफोन या आईपोड जिसमें iOS 14.5 या नया वर्शन हो

Device Specification

साइज

Diameter: 31.9 mm (1.26 in) Thickness: 8 mm (0.31 in)

कनेक्टिविटी

ब्लूटूथ – निकटता के लिए
अल्ट्रा-वाइडबैंड – प्रिसिशन फाइंडिंग के लिए
NFC – लॉस्ट मोड के लिए

स्पीकर

बैटरी

CR2032

सेंसर

एक्सेलेरोमीटर

एयरटैग के फीचर

एयरटैग के फीचर की लिस्ट

  • स्पीकर
  • वाटर प्रूफ
  • लंबी बैटरी (1 साल के लिए)

क्या आपको एयरटैग खरीदना चाहिए

- विज्ञापन -

क्या आपको एयरटैग खरीदना चाहिए इसका जवाब निर्भर करता है की आप किस चीज को ट्रैक करने के लिए इसे खरीदना चाहते हैं।

यदि आप चाबी, रिमोट या किसी घरेलू चीजों को खोजने के लिए इसे खरीदना चाहते हैं तो आप इसे खरीद सकते हैं इसमें कोई परेशानी की बात नहीं है।

यदि आप बाहरी चीजों जैसे – बैग या ड्रोन को ट्रैक करने के लिए इसे खरीदना चाहते हैं तो मैं इसकी बिल्कुल सलाह नहीं दूँगा क्योंकि भारत में ज्यादातर लोग एंड्रॉइड फोन का इस्तेमाल करते हैं और एयरटैग एप्पल के फाइंड माय नेटवर्क पर काम करता है। यानी इसे ट्रैक करने के लिए किसी एप्पल डिवाइस का एयरटैग के आप-पास होना जरूरी है। तभी यह अपनी लोकेशन आप तक पहुँचा पाएगा

पर भारत में एप्पल का बाजार केवल 3 प्रतिशत है वो भी दिल्ली मुम्बई जैसे बड़े शहरों में ज्यादातर लोग आईफोन का इस्तेमाल करते हैं।

इसलिए, यदि आप भारत के किसी छोटे शहर से हैं जहाँ लोग आईफोन का उपयोग ज्यादा नहीं करते तो फिर आप घर की बाहरी चीज को ट्रैक करने के लिए एयरटैग पर पैसा बर्बाद ही कर रहे होंगे।

एयरटैग के अन्य विकल्प

एयरटैग स्वयं की तरह कोई अनोखा प्रोडक्ट नहीं है। इससे पहले भी कई कंपनियों ने ट्रैकिंग के लिए बहुत से प्रोडक्ट बना रखे हैं।

  • टाइल प्रो
  • क्यूब प्रो
  • टाइल मेट
  • चिपोलो वन

और जानकारी के लिए आप यहाँ देख सकते हैं।

क्या एयरटैग स्टोर पर उपलब्ध है।

आप एयरटैग को कहीं से भी खरीद सकते हैं। यह एप्पल की वेबसाइट और एप्पल स्टोर दोनों जगह पर उपलब्ध है। आप जहाँ से चाहें वहाँ से खरीद सकते हैं।

Faq

क्या एयरटैग में GPS चिप लगी है ?

नहीं, एयरटैग में कोई GPS चिप नहीं है। यह लोकेशन खोजने के लिए ब्लूटूथ और अल्ट्रा-वाइडबैंड तकनीक पर निर्भर करता है।

क्या यह वाटर प्रूफ है ?

जी हाँ, यह वाटर प्रूफ है।

भारत में एयरटैग की कीमत क्या है ?

भारत में 1 एयरटैग की कीमत ₹3190 रुपए है।

एयरटैग से कितनी दूर तक ट्रैक किया जा सकता है

पूरी पृथ्वी पर कहीं भी ट्रैक किया जा सकता हैं। (जहाँ भी एप्पल डिवाइस होंगे वहाँ से ट्रैक किया जा सकता है।)

एयरटैग कहाँ से खरीद सकते हैं।

एप्पल की वेबसाइट से या एप्पल स्टोर से, आप जहाँ से चाहें खरीद सकते हैं।

एयरटैग गुम हो जाए तो क्या करें

- विज्ञापन -

आईफोन पर फाइंड माय ऐप खोलकर उसे लोस्ट आइटम की श्रेणी में डाल दें।

- विज्ञापन -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

संपर्क बनाएँ रखें

1,244FansLike
28FollowersFollow
7FollowersFollow

विज्ञापन